छठवीं शक्ति मां कात्यायनी

या देवी सर्वभू‍तेषु मां कात्यायनी रूपेण संस्थिता। नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:।। अर्थ : हे मां! सर्वत्र विराजमान और कात्यायनी के रूप में प्रसिद्ध अम्बे, आपको मेरा बार-बार प्रणाम है. या मैं आपको बारंबार प्रणाम करता हूं. हे मां, मुझे दुश्मनों का संहार करने की शक्ति प्रदान कर. मां दुर्गा के छठे स्वरूप का नाम…

Read More

स्कंदमाता : पांचवीं शक्ति माँ दुर्गा की

या देवी सर्वभू‍तेषु मां स्कंदमाता रूपेण संस्थिता। नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:।। (अर्थ : हे मां! सर्वत्र विराजमान और स्कंदमाता के रूप में प्रसिद्ध अम्बे, आपको मेरा बार-बार प्रणाम है. या मैं आपको बारंबार प्रणाम करता हूं. हे मां, मुझे सब पापों से मुक्ति प्रदान करें.) वरात्रि का पांचवां दिन स्कंदमाता की उपासना का दिन…

Read More

कुष्मांडा : मां दुर्गा की चौथी शक्ति

 सुरासम्पूर्णकलशं रुधिराप्लुतमेव च। दधाना हस्तपद्माभ्यां कुष्मांडा शुभदास्तु मे। नवरात्रि में चौथे दिन देवी को कुष्मांडा के रूप में पूजा जाता है. अपनी मंद, हल्की हंसी के द्वारा अण्ड यानी ब्रह्मांड को उत्पन्न करने के कारण इस देवी को कुष्मांडा नाम से अभिहित किया गया है. जब सृष्टि नहीं थी, चारों तरफ अंधकार ही अंधकार था,…

Read More

तीसरे दिन चंद्रघंटा के रूप में माँ दुर्गा की आराधना

मां दुर्गा की तीसरी शक्ति का नाम ‘चंद्रघंटा’ है. नवरात्रि उपासना में तीसरे दिन की पूजा का अत्यधिक महत्व है और इस दिन इन्हीं के विग्रह का पूजन-आराधन किया जाता है. इस दिन साधक का मन ‘मणिपूर’ चक्र में प्रविष्ट होता है. मां चंद्रघंटा की कृपा से अलौकिक वस्तुओं के दर्शन होते हैं, दिव्य सुगंधियों का…

Read More

दूसरा रूप ब्रह्मचारिणी की पूजा

या देवी सर्वभू‍तेषु मां ब्रह्मचारिणी रूपेण संस्थिता। नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:।। नवरात्र पर्व के दूसरे दिन मां ब्रह्मचारिणी की पूजा-अर्चना की जाती है. साधक इस दिन अपने मन को मां के चरणों में लगाते हैं. ब्रह्म का अर्थ है तपस्या और चारिणी यानी आचरण करने वाली. इस प्रकार ब्रह्मचारिणी का अर्थ हुआ तप का आचरण…

Read More

शैलपुत्री : मां दुर्गा का पहला रूप

वन्दे वांच्छितलाभाय चंद्रार्धकृतशेखराम्‌ । वृषारूढ़ां शूलधरां शैलपुत्रीं यशस्विनीम्‌ ॥ नवरात्रि के पावन पर्व के मां दुर्गा के नौ रूपों की पूजा-उपासना बहुत ही विधि-विधान से की जाती है. इन रूपों के पीछे तात्विक अवधारणाओं का परिज्ञान धार्मिक, सांस्कृतिक और सामाजिक विकास के लिए आवश्यक है. मां दुर्गा को सर्वप्रथम शैलपुत्री के रूप में पूजा जाता…

Read More

नवरात्रि घटस्थापना शुभ मुहूर्त

आज से नवरात्रि पर्व आरंभ हो रहा है. मां दुर्गा के नौ रूपों की आराधना का पर्व 25 सितंबर 2014 से शुरू होकर 2 अक्टूबर को समाप्त होगा. 25 सितंबर को हस्त नक्षत्र में सूर्यास्त से पूर्व नवरात्रि की मंगल घटस्थापना अत्यंत शुभ है. घटस्थापना के मंगल मुहूर्त :- शुभ मुहूर्त गुरुवार प्रात: 6 बज…

Read More

आलू के बदले नमक

पहाड़ों में खेती का उत्पादन घरों की व्यवस्था चलाने तक सीमित था. कुछ फसलें जो नकद फसलें होती थी उनको दुकानदारों या ठेकेदारों को अन्य अन्न के बदले अदलाबदली की जाती थी. पहाड़ों में कई इलाकों में आलू और चोलाई (मारछा) बड़ी मात्रा में होता था. लोग आलू और चोलाई को उठाकर आलू के ठेकेदार…

Read More

सूख रही हैं झीलें

उच्च हिमालय क्षेत्र में स्थित अधिकांश झीलों का जलस्तर लगातार घटता जा रहा है, जिससे इसके अस्तित्व पर ही संकट पैदा हो गया है. यदि इसी गति से जलस्तर घटा तो आने वाले कुछ साल में ही हिमालय की झीलें गायब हो सकती हैं. यह स्थिति न केवल पर्यावरण संतुलन बल्कि जीव-जंतुओं के लिए भी…

Read More

12वीं के बाद सीधे एमएड

केंद्र सरकार वर्तमान शिक्षा प्रणाली में सुधार में जुटी है. शिक्षा के गिरते स्तर से चिंतित मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने बीएड और एमएड की पढ़ाई में व्यापक फेरबदल का निर्णय लिया है. अब अगर छात्रों की रुचि शिक्षक बनने की है तो १२वी के बाद सीधे मास्टर बनने के लिए रास्ता साफ़ हो जाएगा…

Read More